श्योपुर में 35 गौशालायें बनेंगीं , पूरे चंबल संभाग में 138 और गौशालायें स्वीकृत

 प्रदेश के गौवंश को संरक्षण देने के लिये चालू माली साल के दौरान चंबल संभाग के मुरैना, भिण्ड और श्योपुर जिले में 290 गौशालाओं के निर्माण का लक्ष्य राज्य सरकार द्वारा दिया गया है, इसमें से 138 गौशालाओं के निर्माण कार्य की स्वीकृति दी गई है।

    चंबल संभाग के कमिश्नर श्री आशीष सक्सेना ने पशुपालन विभाग के हवाले से बताया है कि सर्वाधिक 130 गौशालाओं का निर्माण लक्ष्य भिण्ड जिले को दिया गया है। मुरैना को 120 गौशालाओं का और श्योपुर जिले में 40 गौशालाओं का निर्माण लक्ष्य दिया है। इन सभी 290 गौशालाओं में से 138 गौशाला निर्माण की स्वीकृति दी गई है। इनमें से मुरैना जिले में लक्ष्य 120 में से 69, भिण्ड जिले में 130 में से 34 और श्योपुर जिले में प्राप्त लक्ष्य 40 में से 35 गौशालाओं का निर्माण की स्वीकृति दी गई है।   
    पशुपालन विभाग के संभागीय संयुक्त संचालक श्री अशोक सिंह तोमर ने बताया कि संभाग में 51 गौशालायें संचालित है, जिनमेें मुरैना में 20, भिण्ड में 17 और श्योपुर जिले में 14 गौशालायें है। इन 51 संचालित गौशालाओं में 90 बोरवेल काम कर रहे है। 38 गौशालाओं में विद्युत व्यवस्था की गई है। संभाग में पंजीकृत 67 गौशालायें है, इनमें मुरैना में 20, भिण्ड में 31 और श्योपुर जिले में 16 गौशालायें है। इन 67 पंजीकृत गौशालाओं में 90 चेफकटर, 90 ऑव्हरहेड टेक, 57 सवमर्सिबल पम्प, 82 चारागाह विकास स्थल बनाये गये है। निर्माणाधीन गौशालाओं में 21 गौशालाओं में छत स्तर, 72 में प्लिन्थ स्तर, 39 में दीवार स्तर का कार्य किया जा चुका है। संचालित गौशालाओं में 3 हजार 255 गौवंश संरक्षित किये गये है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें